"मैं भागी नहीं थी माँ" आठ कहानियों से सजा हुआ संग्रह





 बहुत खर्चीली होती हैं न औरतें!अपने सपनों को अपने रिश्ते बचाने के लिए खर्च कर देती हैं।अपनी रुह के तिनकों को समेट कर समाज में अपने लिए ऐसा आशियाना तलाशती रहतीं हैं जहाँ उन्हें कोई स्त्री समझें।रहस्यमयी होती हैं औरतें।इनके भीतर अनेक राज छिपे होते हैं लेकिन अपनी चाहत के सिलबट्टे से इन राज का चूरा बनाती औरतें पुरुषों के मन में चुपचाप बैठ जाती हैं जहाँ पर पुरुष निकल कर भी निकल नहीं पाता।

"मैं भागी नहीं थी माँ" आठ कहानियों से सजा हुआ संग्रह समाज उसमें जीने वाले ऐसे लोगों की कहानी है जो आप सबसे अपने दिल की हर बात कहना चाहते हैं।

यह संग्रह स्त्री और पुरुष के उन मनोभावों की कहानियां कह रहा है जिसमें प्रेम भी है रहस्य भी।अपराध भी और पीड़ा भी।

आशा करती हूँ आप सभी का प्यार इस संग्रह को मिलेगा।


पृष्ठ संख्या- 144

प्रकाशन वर्ष- 2022

प्रकाशक- वनिका पब्लिकेशन


मूल्य- 250


अमेजॉन और प्रकाशक के माध्यम से खरीदा जा सकता है।


https://www.amazon.in/dp/B0BM9FLSZG?ref=myi_title_dp

Popular posts from this blog

शादी में दिखावे की हदे पार, लड़की पक्ष ने विवाह स्थल पर लगवाया फ्लैस्क, लिखा :- गाडी के साढे 7 लाख नकद दिए दूल्हे को

इस्लामिया इंटर कालिज के वजूद पर खतरा मंडराया

समाज को शिक्षित व सुरक्षित रखने का संदेश दिया