बाबा फैरूल्लाह शाह(कुददुसी)का 45 वा तीन दिवसीय सालाना उर्स बड़ी धूमधाम से मनाया



 

मुजफ्फरनगर। खतौली क्षेत्र के इस्लामाबाद(भूड)में स्थित बाबा फैरूल्लाह शाह चिश्ती साबरी दीदार शाही(कुददुसी)की दरगाह पर साबरी कमेटी के सौजन्य से सोमवार से तीन दिवसीय 45 वा सालाना उर्स अकीदत के साथ मनाया गया।जिसमें जायरीनों ने मजार-ए-अकदस पर चादर पोशी कर दुआ-ए-खैर मांगी,तथा फातिहा के बाद तबर्रुक ओर लगंर को तकसीम किया गया।बाबा फैरूल्लाह शाह चिश्ती साबरी दीदार शाही(कुददुसी)के उर्स की शुरुआत गुस्ल और संदल पेश करने से शुरू किया गया।तथा दरगाह से लेकर गली नुक्कड़ को डेकोरेशन से सजाया गया।सोमवार को मगरिब नमाज के बाद संदल उठाई गई और बाबा फैरूल्लाह शाह की मजार पर चादरपोशी की गई।जायरीनों ने शिरकत करते हुए फातेहा पढ़ी और दुआ मांगी। मजार का बोशा लेते हुए अकीदत मंदों ने अपनी मन्नते मांगी।उसके बाद तबर्रुक व लगंर को तकसीम किया गया। तथा मगंलवार को मिलाद-उल-नबी का कार्यक्रम किया गया,ओर खलिफाओ को पटका पहनाकर सम्मानित किया गया।इसके बाद रात में महफिल-ए-समा का आयोजन हुआ।जिसमें तिलबेगमपुर, सिकंदराबाद बुलंदशहर से पहुंचे सूफी रियासत अली साबरी,ओर सराफत अली साबरी,कव्वाल व मुन्ना निज़ामी सूफी,कव्वाल डांसना गाज़ियाबाद ओर खलील साबरी,कव्वाल सिसौली मेरठ एवं आफताब वारसी,कव्वाल उझारी अमरोहा सहित नसीर कव्वाल साबरी,कुददुसी गंगोह सहारनपुर इन सभी कव्वालो ने रात भर हम्द नात,निस्बती गज़ल,नातियां कलाम पेश किये।तथा बुधवार सुबह कुलशरीफ फातेहा ख्वानी में कलाम ए पाक की तिलावत कर सलातो सलाम के बाद बाबा फैरूल्लाह शाह दरगाह शरीफ खतौली,बाबा बदरुद्दीन शाह दरगाह तिलशरीफ बुलंदशहर,दादा अकबर अली शाह दरगाह शरीफ तुगलपुर मुजफ्फरनगर के गद्दी नशीन हाजी हासिम मियां साबरी किबला ने मुल्क में अमन-ओ-चैन के साथ लोगों के सलामती की दुआ मांगी।साहब जादा दरगाह खतौली शरीफ़ हाजी अकरम चिश्ती साबरी ने बताया कि बाबा फैरूल्लाह शाह का 45वा तीन दिवसीय सालाना उर्स सोमवार से बुधवार तक खतौली के इस्लामाबाद भूड में मनाया गया है।जिसमें दूर दराज से आए जायरिनों के ठहरने व जल-पान की व्यवस्था साबरी कमेटी की ओर से कराई गई है।मियां सराजुद्दीन शाह ने बताया कि खतौली के इस्लामाबाद भूड में बाबा फैरूल्लाह शाह का 45 वा सालाना उर्स अकीदत के साथ तीन दिन तक मनाया गया है।दरगाह पर कलाम-ए-पाक की तिलावत कर जायरीनों ने फूल और चादरपोशी कर दुआ-एं-खैर मांगी।दरगाह कमेटी की ओर से दूर-दराज से आए जायरिनों के लिए रात में ठहरने व जल-पान की व्यवस्था कराई है।ओर कव्वालों ने रात भर महफिल ए समा में नातिया कलाम पेश किए गए।इस अवसर पर मियां आसमोहम्मद सज्जादा, दीनमोहम्मद शाह दरगाह तिलशरीफ,मियां रफाकत साबरी,खादिम दरगाह तिलशरीफ,मियां नियाज़ मोहम्मद कमेटी प्रबंधक तिलशरीफ,मियां फिरास्त हुसैन तिलशरीफ,कमेटी सदस्य मियां जिन्दे हसन गद्दी नशीन दरगाह गुलाम साबिर तुगलपुर कम्हेडा शरीफ़ पुरकाजी,मियां खलील गद्दी नशीन दरगाह अमीरुद्दीन शाह ढोलाना शरीफ़ हापुड़,मियां कय्युम देहरा हापुड़,मियां मुन्तियाज खादिम धनेडा शरीफ़ भोपा मुजफ्फरनगर,मियां सराजुद्दीन शाह मवाना,मियां भोला मेरठ,मियां नूरमोहम्मद, आदि खलिफा अपने मुरीदों सहित खतौली शरीफ़ बाबा फैरूल्लाह शाह के तीन दिवसीय 45 वे सालाना उर्स में मौजूद रहे वहीं इस दौरान बड़ी संख्या में बुजुर्ग,बच्चे और महिलाएं भी शामिल हुई।

Popular posts from this blog

शादी में दिखावे की हदे पार, लड़की पक्ष ने विवाह स्थल पर लगवाया फ्लैस्क, लिखा :- गाडी के साढे 7 लाख नकद दिए दूल्हे को

इस्लामिया इंटर कालिज के वजूद पर खतरा मंडराया

समाज को शिक्षित व सुरक्षित रखने का संदेश दिया