नदलेस की ऑनलाइन मासिक गोष्ठी में देश भर से जुड़े कवियों ने किया काव्यपाठ









नव दलित लेखक संघ की ऑनलाइन मासिक गोष्ठी में देश भर से जुड़े कवियों ने काव्यपाठ किया। गोष्ठी में अक्टूबर माह में बने नदलेस के आजीवन सदस्य रचनाकारों को आमंत्रित किया गया था। इनमें डा. राजन तनवर, डा. ईश्वर राही, सुरेश सौरभ गाजीपुरी, योगेंद्र प्रसाद अनिल, जोगेंद्र सिंह, आर. एस. आघात, रिछपाल विद्रोही, तिलक तनौदी स्वच्छंद, चितरंजन गोप लुकाटी, डा. रामावतार सागर, राकेश कुमार धनराज, डा. धीरजभाई वणकर, डा. विपुल भवालिया, कविता भवालिया, मोहनलाल सोनल मनहंस आदि रचनाकार उपस्थित रहे और बेजोड़ काव्यपाठ किया। इनके अतिरिक्त गोष्ठी में डा. अमित धर्मसिंह, डा. गीता कृष्णांगी, डा. अमिता मेहरोलिया, महिपाल सिंह, रामस्वरूप मीणा, सोमी सैन, सुरेश कुमार, मामचंद सागर, हुमा खातून, मदनलाल राज़, तारा परमार, डा. बुद्धिराम बौद्ध, डा. सुरेखा, अखिलेश कुमार पासवान, राकेश यादव, बृजपाल सहज, महिपाल, बंशीधर नाहरवाल, जलेश्वरी गेंदले, पुष्पा विवेक, जगदीश कश्यप, दीप रंगा, डा. कुसुम वियोगी, रामदास बरवाली, बोधि फाउंडेशन, शिव बोधि, मंगीलाल, डा. अनिल कुमार आदि रचनाकार उपस्थित रहे। इनमें भी अधिकांश ने काव्यपाठ भी किया। गोष्ठी की अध्यक्षता नदलेस के उपाध्यक्ष मदनलाल राज़ ने की और संचालन डा. अमिता मेहरोलिया ने किया। धन्यवाद ज्ञापन डा अमित धर्मसिंह ने किया।

          गोष्ठी का आरंभ डा. ईश्वर राही ने अपनी कविता साक्षात्कार से किया। उन्होंने नियुक्तियों में होने वाली गड़बड़ी को केंद्र में रखकर कविता कुछ यूं पढ़ी - "कल मेरा साक्षात्कार है/यह जानते हुए भी कि सबकुछ तय है/मैं बार-बार खोलता हूं किताबें।" डा.राजन तनवर ने बदलते समय की तस्वीर कविता में ऐसे प्रस्तुत की - "अब नहीं जागती मां/प्रभात के तारे को देखकर/नहीं जगाती बच्चों को पढ़ने के लिए।" जोगेंद्र सिंह ने विद्यार्थी दिवस कविता का ओजस्वी पाठ कुछ यूं किया "दूध पियो शेरनी का, और खुलकर दहाड़ लगाइए/शिक्षा की पूरी ताकत से, राहों के पहाड़ हटाइए।" तिलक तनौदी स्वच्छंद ने व्यवस्था पर प्रश्नचिह्न लगाने वाली कविता पढ़ी - "शासन का क्यों सोच नही? नारी का स्वाभिमान पर/प्रशासन क्यों प्रहार न करता? नारी के अपमान पर/रक्षक क्यों भक्षक बन जाता? कानून का दरकिनार कर/अमानवीय घटनाएँ आ रही हर रोज नई  समाचार पर।" डा. रामावतार सागर ने भूख पर तरन्नुम से प्रभावशाली ग़ज़ल प्रस्तुत की -"भूख रोटी के निवालों तक नहीं पहुँची/ये ख़बर पांवों के छालों तक नहीं पहुँची/उम्र भर रातें अँधेरों में कटी उसकी/मुफ़लिसी आख़िर उजालों तक नहीं पहुँची।" राकेश कुमार धनराज की गंभीर कविता एक इंसान होने का बोध भी पसंद की गई -"अतीत में कभी उसे स्वीकारा ही न गया हो/कि उनके पास भी है इंसानों का आभासी चेहरा/

उन तथाकथित समाजों की हलक से/कभी निकला ही नहीं कि उन्हें भी मिले मौका/साथ बैठने, साथ खड़ा होने या चलने का अधिकार।" 

          जगदीश कश्यप ने विस्फारित नेत्रों से शीर्षक वाली सशक्त कविता प्रस्तुत की -"उस खडू़स  को/हां , हां मैंने देखा है/उस अधेड़ को उधेड़बुन में/चलते सरपट भागते/बस पकड़ने की चाह लिए/ मैंने देखा है/कौन सा मंतव्य व गंतव्य होगा/यों रोज-रोज कांधे पर एक झोला बेतरतीब से/केश श्वेत-श्याम /हाथ में लकुटि थामें/मैंने देखा है।" कविता भवालिया 'आध्या' की प्रेम कविता कुछ इस प्रकार रही- "तेरी याद में खो गए है, हम कुछ इस तरह/तेरे सिवा कुछ भी याद आता नहीं जाने कब आएगा वो पल/जब हम बरसेंगे, एक दूजे पर सावन की तरह।" डा. अमिता मेहरोलिया ने अपनी कविता में औरत की अभिलाषा को प्रस्तुत किया -" औरत क्या चाहती है/आसमान में उड़ना/अपने सपने पूरे करना/औरत क्या चाहती है/मन का पहनना/देर शाम तक टहलना।" औरत क्या चाहती है/प्रेम में स्वतंत्रता/बोझिल रिश्तों में न बंधना।" इनके अतिरिक्त सुरेश सौरभ गाजीपुरी, योगेंद्र प्रसाद अनिल, रामस्वरूप मीणा, आर एस आघात, मामचंद सागर, रिछपाल विद्रोही, मदनलाल राज़, डा. बुद्धिराम बौद्ध, चितरंजन गोप लुकाटी, राकेश यादव, बंशीधर नाहरवाल, पुष्पा विवेक, मोहन लाल सोनल मनहंस, डा. विपुल भवालिया, डा. कुसुम वियोगी,  रामदास बरवाली आदि ने भी प्रभावशाली काव्यपाठ किया। अध्यक्षता कर रहे मदनलाल राज़ ने सभी कवियों की मुक्तकंठ से सराहना की और इस तरह की गोष्ठियों की उपयोगिता पर प्रकाश डाला। सभी उपस्थित कवियों और रचनाकारों को नदलेस से जुड़ते रहने और दूसरों को भी जोड़ने के आह्वान के साथ का धन्यवाद ज्ञापन डा. अमित धर्मसिंह ने किया।



Popular posts from this blog

शादी में दिखावे की हदे पार, लड़की पक्ष ने विवाह स्थल पर लगवाया फ्लैस्क, लिखा :- गाडी के साढे 7 लाख नकद दिए दूल्हे को

इस्लामिया इंटर कालिज के वजूद पर खतरा मंडराया

समाज को शिक्षित व सुरक्षित रखने का संदेश दिया