प्रसव के दौरान महिला की मौत के बाद हुआ हंगामा

टूट रही सांस बढ़ रहा व्यापार..............??





भोपा के प्राइवेट नर्सिंग होम में प्रसव के दौरान महिला की मौत के बाद हुआ बवाल, ग्रामीणों ने डॉक्टर की लापरवाही को लेकर घण्टो किया हंगामा,स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बिना रजिस्ट्रेशन के चल रहे नर्सिंग होम पर छापामार जाँच की शुरू




काज़ी अमजद अली


मुज़फ्फरनगर- सिस्टम की लापरवाही के चलते फिर एक महिला की जान उस समय चली गई जब उसने एक बालिका को जन्म दिया । बिना रजिस्ट्रेशन के संचालित नर्सिंग होम में डिलीवरी के दौरान महिला की मौत के बाद जहां स्वास्थ्य विभाग कुम्भकर्णी नीन्द से जागा है। वही प्रसव पीड़िता की मौत को लेकर  ग्रामीणों ने चिकित्सक पर लापरवाही के आरोप लगाते हुए चार घण्टे तक हंगामा किया।


       मुज़फ्फरनगर जिले के भोपा थाना क्षेत्र के गाँव रहकड़ा मे मौ.मेहदी की गर्भवती पत्नी शबाब ज़ोहरा को  प्रसव की पीड़ा हुई तो उसे मंगलवार की शाम भोपा के प्राइवेट नर्सिंग होम में लाया गया। देर रात महिला की तबियत बिगड़ने पर चिकित्सक ने कंडीशन क्रिटीकल बताते हुए ऑपरेशन करने को कहा। कुछ देर बाद महिला का ऑपरेशन किया गया। महिला ने एक पुत्री को जन्म दिया। इसी दौरान महिला को तेज रक्त स्राव होने लगा तो चिकित्सक ने हड़बड़ा कर महिला को जिला मुख्यालय पर ले जाने ले लिए कहा किन्तु तब तक देर हो चुकी थी। कुछ ही पलो  में महिला ने अपनी अंतिम सांस ली। महिला की मौत के बाद बुधवार की सुबह सवेरे सेंकडो ग्रामीण अस्पताल में इकट्ठा हो गए व चिकित्सक पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया। चार घण्टो तक चले हंगामे के बाद कार्रवाई के आश्वासन के बाद ग्रामीण शान्त हो गए। वही मृतका  नवजात बालिका सहित तीन अन्य  छोटी पुत्रियों को भी छोड़ गई है। 


वहीँ घटनाओं के बाद जागे स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा नर्सिंग होम पर छापामारी की गई है। प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ.अर्जुन सिंह ने बताया कि सोशल मीडिया के द्वारा उन्हें भोपा में स्थित आदर्श हॉस्पिटल नामक अस्पताल में महिला की मौत की सूचना मिली थी मृतक महिला की नवजात जीवित है अस्पताल का निरीक्षण किया गया जहाँ  न तो ऑक्सीजन की कोई सुविधा है और इन कोई अन्य सुविधाएं रजिस्ट्रेशन के बिना अस्पताल को संचालित जा रहा था। फिलहाल तीन महिला मरीज़ अस्पताल में हैं जिनका ऑपरेशन कर डिलीवरी की गई है। अस्पताल के संचालक पर कार्रवाई की जाएगी क्षेत्र की आशाओं की संलिप्तता संज्ञान में आई है। कुछ आशाओं के नाम अस्पताल के रजिस्ट्रर में दर्ज मिले हैं जाँच कर कार्रवाई की जाएगी।



आदर्श हॉस्पिटल द्वारा आशाओं को बांटे जाते थे गिफ्ट



आदर्श हॉस्पिटल द्वारा क्षेत्र में तैनात आशाओं को गिफ्ट बांटने की बात भी बताई गई है अस्पताल के रजिस्टर में आशाओं के नाम के आगे हज़ारों की रकम अंकित है जो पाँच से सात हजार के बीच बताई गई है। ज़ाहिर है लालच में आकर कुछ आशा महिलाओं को सरकारी अस्पताल में न ले जाकर प्राइवेट अस्पताल में भर्ती करा रही हैं। स्वास्थ्य विभाग की सेवाओं को बदनाम कर आशा गर्भवती महिला के परिवार वालों को प्राइवेट अस्पताल में ले जाने के लिये प्रेरित करती हैं। इसके अलावा अगर मृतक शबाब ज़ोहरा की का प्रसव क्रिटीकल था तो वहाँ तैनात आशा ने इसकी जानकारी अस्पताल में क्यूँकर दर्ज नही कराई।।अस्पताल द्वारा किन आशाओं को गिफ्ट वितरित किए जा रहे थे इसकी जाँच में स्वास्थ्य विभाग जुट गया है।


मौ.मेंहदी दम्पत्ति की आर्थिक स्थिति बहुत बेहतर नही बताई गई है। जानकारी के अनुसार मौ.मेंहदी अपनी पत्नी स्व.शबाब के साथ मिलकर बुटीक आदि का कार्य कर परिवार की आजिविका चला रहे थे। 10 वर्षीय तानिया 8 ज़ोया 5 वर्षीय मासूम के अलावा नवजात की परवरिश एक चुनोती की तरह होगी।

Popular posts from this blog

गोरखपुर के कलक्टर विजय किरण आनंद व SSP पर NHRC में केस दर्ज

सिटी सेंटर में हुई लाखो की चोरी का खुलासा, महिला सहित 5 अरेस्ट, 31 मोबाइल व नकदी बरामद

शादी में दिखावे की हदे पार, लड़की पक्ष ने विवाह स्थल पर लगवाया फ्लैस्क, लिखा :- गाडी के साढे 7 लाख नकद दिए दूल्हे को