दरोगा पति का पत्नी ने किया बचाव, बताया निर्दोष

 


-बलात्कार का आरोप लगाने वाली महिला को बताया ब्लैकमैलर

मेरठ। एसएसआई अरूण कुमार की पत्नी ने अपने पति का बचाव करते हुए आरोप लगाने वाली महिला मालती पर गंभीर आरोप लगाए हैं। पति के पक्ष में आकर पत्नी आरती दिवाकर ने आरोप लगाने वाली मालती सागर उर्फ माही को ब्लैकमैल करने वाली महिला बताया है। आरती ने दरोगा पति को बेकसूर बताते हुए आलाधिकारियों से पूरे मामले में निष्पक्ष जांच की मांग की है। आरती ने ऐसे साक्ष्य भी मीडिया को दिखाए और यह साबित करने की कोशिश कि उसके पति को फंसाया गया है। 

थाना ब्रहमपुरी क्षेत्र के ग्रीन विलेज सुपरटेक निवासी आरती दिवाकर ने बताया कि उसके पति अरूण कुमार उत्तर प्रदेश पुलिस में सब इंस्पेक्टर है। उनकी तैनाती थाना हस्तिनापुर में है। आरोप लगाया कि सरस्वती लोक निवासी मालती सागर उर्फ माही पत्नी विपिन शातिर किस्म की महिला है, जो उसके पति को लगभग दो सालों से ब्लैकमैल कर रही है। बताया कि गत आठ अक्टूबर को माही का उसके पास फोन आया और 15 लाख रुपये मांगे। ये रुपये एक फ्लैट के लिए मांगे गए थे, जिसे माही 28 लाख रुपये में खरीद रही है, जबकि इस फ्लैट के लिए उसके पति माही को पहले ही 6 लाख रुपये दे चुके थे। इतनी बड़ी रकम को देने से उसने इंकार कर दिया तो मालती ने बात करने के लिए बुलाया। दो दिन बाद वह दीपक बंसल व अचिन अग्रवाल के साथ माही के बताए स्थान पर पहुंची। वहां माही अपने पति विपिन, अशोक, कविता रानी और एक अज्ञात व्यक्ति के साथ खड़ी मिली। माही से जब रुपये मांगने का विरोध किया तो उसने अरूण को बलात्कार के झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी दी। जब इसका विरोध किया तो माही ने गाली गलौच और धमकी दी। धमकाया कि झूठा मुकदमा दर्ज करवाकर वह अरूण को जेल भिजवा देंगी। इसकी सूचना लिसाड़ीगेट थाने में दी गई थी, लेकिन पुलिस ने कार्रवाई नहीं की। आरती ने बताया कि माही छेड़खानी, बलात्कार के झूठे आरोप लगाकर लोगों से पैसे ऐंठती रहती है। वह पहले भी कई लोगों के साथ ऐसा कर चुकी है। आरती ने माही को शातिर और चालाक किस्म की महिला बताया। 

मीडिया को दिखाए माही के अश्लील फोटो

मीडिया से बात करते हुए आरती दिवाकर ने बताया कि माही पूर्व में भी कई लोगों को ऐसे ही मामलों में फंसा चुकी है। माही ने 2020 में पत्रकारों के खिलाफ मेरठ में मामला दर्ज कराया था। अपने जेठ के खिलाफ भी मोदीनगर थाने में छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज कराया था, लेकिन बाद में माही ने जेठ से रुपये ऐंठकर समझौता कर लिया। इसी तरह का मामला माही ने चंडीगढ़ के थाना पिंजौर में भी होटल मालिक अशोक के खिलाफ लिखवाया था। जिसमें माही ने होटल मालिक पर दुष्कर्म का प्रयास करने का आरोप लगाया था। प्रेसवार्ता में आरती ने माही के अश्लील फोटो भी मीडिया को दिखाए। इन फोटो से आरती ने ये बताने की कोशिश की कि माही घरेलू महिला नहीं है।

जब पिस्टल नहीं थी तो तान कैसे दी?

स्कूटी प्रकरण पर आरती ने सवाल खड़ किए। जानकारी देते हुए बताया कि जिस समय का मामला बताया जा रहा है, उस वक्त उसके पति अरूण की तैनाती नहीं थी। यहां तक कि अरूण को विभाग की ओर से पिस्टल भी नहीं मिली थी। तो फिर कैसे माही ने पिस्टल तानकर अरूण पर दुष्कर्म का मामला लगा दिया। हस्तिनापुर की बात जो माही ने कही है, उस समय तो माही चंड़ीगढ़ गई हुयी थी। माही ने चंड़ीगढ़ पुलिस के खिलाफ भी निष्पक्ष जांच न करने के आरोपों की शिकायत की है। 

इंसाफ न मिला तो कर लूंगी आत्महत्या

आरती ने इस पूरे मामले में निष्पक्ष जांच की मांग पुलिस विभाग से की है और माही पर कार्रवाई की मांग की है। कहा कि अगर इंसाफ नहीं मिला तो वह अपनी 10 माह की पुत्री के साथ आत्महत्या कर लेंगी। हालांकि, आरती ने पुलिस विभाग पूरा भरोसा जताया है कि उसे इंसाफ जरूर मिलेगा।

दरोगा अंकित पर भी उठाए सवाल

आरती दिवाकर ने बताया कि दरोगा अंकित पहले से ही माही के संपर्क में थे। अंकित ने ही फोन करके उसके पति को माही के घर बुलाया था। उसके पति की वीडियो तो वायरल कर दी गई, लेकिन अंकित की बचा ली गई। ये पूरा षड्यंत्र उसके पति के खिलाफ रचा गया था। आरती का कहना है कि अंकित के खिलाफ भी पुलिस विभाग जांच बैठाए। आरती ने बताया कि इस प्रकरण में मीडिया के लोगों के खिलाफ माही ने मुकदमा दर्ज कराया था, जिसमें अपने बयानों में माही ने उसके पति को भाई बताया था। भाई के नाते ही उसके पति का माही से संपर्क था। अब जो आरोप लगे है, उसकी गहनता से जांच हो।

Popular posts from this blog

गोरखपुर के कलक्टर विजय किरण आनंद व SSP पर NHRC में केस दर्ज

सिटी सेंटर में हुई लाखो की चोरी का खुलासा, महिला सहित 5 अरेस्ट, 31 मोबाइल व नकदी बरामद

चाऊमीन खिलाने के बहाने घर से बुलाकर ले गए युवक की दोस्तों ने ही सिर में गोली मारकर हत्या