शीरे के ट्रक ने गर्भवती महिला समेत दो को रौंदा




- मृतका के परिजनों ने लगाया जाम, उच्चाधिकारियों को बुलाने की मांग की , ब्लाक प्रमुख पहुंचे 

मवाना। अनिल शर्मा। मवाना-किला रोड स्थित जगन सिनेमा  के समीप दर्दनाक हादसा में गर्भवती महिला समेत दो की मोत होने से परिवार में कोहराम मच गया। हादसे की जानकारी मिलते ही थाना प्रभारी मय फोर्स मोके पर पहुंचे ओर शवों को कब्जे में लेकर आनन-फानन पीएम के लिए मोर्चरी भेज दिया। घटना की सूचना मिलते ही मायके वाले भी घटनास्थल पर पहुंचे और मुआवजे के साथ चालक के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर हंगामा करते हुए सड़क जाम कर दी। थाना प्रभारी विष्णु कोशिक ने कार्रवाई का आश्वासन देते हुए जाम खुलवा दिया। लेकिन गुस्साए ग्रामीणों ने देर शाम एकत्रित होकर घटनास्थल पर पहुंचे और कार्रवाई की मांग को लेकर सड़क जाम कर दी।  आरोप है कि पुलिस ने मोके पर पड़े शवों के अवशेषो को उठाने की जहमत नहीं उठाई। मृतका के परिजनों ने ट्रक चालक के खिलाफ थाने में तहरीर दी है। 

       जानसठ के गांव नटोर निवासी सुंदरपाल पुत्र आनंदपाल करीब साढ़े चार बजे अपनी पत्नी बबली एवं पुत्रवधु रीना पत्नी अंकुर को बाइक द्वारा परीक्षितगढ के गांव हुमायूंपुर गढी रिश्तेदारी में जा रहे थे। मवाना किला रोड स्थित शुगर मिल के समीप फलों की खरीददारी करने के जैसे गंतव्य की ओर बढ़े तो पीछे से आए शीरे के भरे ट्रक ने बाइक सवारों को अपनी चपेट में ले लिया। बाइट में टक्कर लगने के बाद बाइक अनियंत्रित हो गई। जिसके चलते बाइक पर बैठी सास-बहू ट्रक के पिछले पहिये के नीचे आने से बड़ा दर्दनाक हादसा हो गया ओर गर्भवती महिला समेत सास-बहू की मोके पर ही मोत हो गई। हादसे में दो महिलाओं की मोत होने की सूचना मिलते ही थाना प्रभारी विष्णु कोशिक मय फोर्स मोके पर पहुंचे ओर स्थिति को संभालते हुए शवों को कब्जे में लेकर पीएम के लिए मोर्चरी भेज दिया। हादसे में महिलाओं की मोत होने से परिवार में कोहराम मच गया और आनन-फानन परिवार के सदस्य घटनास्थल पर पहुंचे और पुलिस से सख्ती से कार्रवाई करने एवं मुआवजा दिलाने की मांग को लेकर हंगामा करते हुए सड़क जाम कर दी। इस दौरान थाना प्रभारी विष्णु कोशिक ने कार्रवाई का आश्वासन दिया लेकिन परिजनों ने ट्रक चालक को गिरफ्तार करने लगे। हंगामा एवं जाम होने से सड़क पर वाहनों की लंबी कतार लग गई। ग्रामीणों का आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पीएम के भले ही भेज दिया हो लेकिन मोके पर पड़े शवों के अवशेष सड़क पर छोड़ दिये जिसको लेकर पुलिस के प्रति रोष देखने को मिला। वहीं घटनास्थल पर पहुंचे परिजनों ने शवों से निकले अवशेष को इकट्ठा करते हुए नजर आये। मृतका के परिजनों ने कार्रवाई को लेकर हंगामा करते हुए सड़क जाम कर दी ओर मोके पर उच्चाधिकारियों को बुलाने की मांग पर अड गये। सूचना मिलते ही एसडीएम कमलेश कुमार एवं सीओ उदय प्रताप सिंह के साथ कई थानों का पुलिस बल मोके पर पहुंच गया। एसडीएम ने परिवार के सदस्यो को समझाते हुए कार्रवाई के साथ आर्थिक सहायता दिलवाने का आश्वासन दिया है लेकिन ग्रामीण सड़क पर डटे रहे। इस मौके पर हस्तिनापुर व मवाना ब्लाक प्रमुख नितिन पोसवाल एवं योगेश गुजर्र भी मोके पर पहुँचे ओर ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया।  हालांकि घंटों तक जाम में वाहन फंसे रहे। समाचार भेजे जाने तक कोई तहरीर नही दी है।

Popular posts from this blog

गोरखपुर के कलक्टर विजय किरण आनंद व SSP पर NHRC में केस दर्ज

सिटी सेंटर में हुई लाखो की चोरी का खुलासा, महिला सहित 5 अरेस्ट, 31 मोबाइल व नकदी बरामद

चाऊमीन खिलाने के बहाने घर से बुलाकर ले गए युवक की दोस्तों ने ही सिर में गोली मारकर हत्या