विश्व फार्मासिस्ट दिवस पर महावीर कॉलेज में कार्यक्रम आयोजित

 






अहमद हुसैन 

मेरठ-करनाल मार्ग पर गांव पौहल्ली के पास महावीर एजूकेशनल पार्क, में फार्मेसी विभाग के बी0फार्मा एवं डी0फार्मा के छात्रों द्वारा विश्व फार्मासिस्ट दिवस का आयोजन किया गया। जिसका उद्घाटन संस्थान के तेजस भारद्वाज, डायरेक्टर जनरल सतीश राघव, सीईओ आशीष बालियान, डायरेक्टर एडमिन विक्रांत यादव व फार्मेसी विभाग के प्राचार्य अलीमुद्दीन सैफी ने किया।विश्व फार्मासिस्ट दिवस के अवसर पर संस्थान के डायरेक्टर जनरल सतीश राघव ने बताया कि फार्मा जगत मंे छात्रों की प्रतियोगिता में उत्सुकता की भावना अत्यंत प्रंशसनीय है। फार्मासिस्ट के बारे में बताते हुए कहा कि कई ऐसे देश है जो कि अपने लोगों के स्वास्थय को ध्यान में रखते हुए नई-नई नीतियों को लागू करते है। हम अपने देश के संविधान की बात करें तो आर्टिकल 21 के अनुसार राइट टू लाइफ एक फंडामेंटल राइट है। एक व्यक्ति को तभी स्वस्थ कहा जा सकता है जो कि शारीरकि, मानसिक और अध्यात्मिक रूप से स्वस्थ होता है। कई सालों पहले अंतर्राष्ट्रीय फार्मास्यूटिकल फेडरेशन कांग्रेस द्वारा इंस्ताबुल में 25 सितम्बर को वर्ल्ड फार्मासिस्ट के रूप में नामांकित किया गया था। यह दिन दुनिया के उन फार्मार्सिस्ट को समर्पित है जो स्वास्थ्य में सुधार और प्रमोट करने के लिए तरह-तरह के कार्यकलापों का आयोजन करते रहते है।

संस्थान के तेजस भारद्वाज ने इस बार की फार्मासिस्ट डे की की थीम है ‘फार्मसी: ऑलवेज ट्रस्टेड फॉर योर हेल्थ’ पर प्रकाश डालते हुए बताया कि आज के समय में स्वास्थ क्षेत्र में विश्वास एवं फार्मेसी के अभ्यास पर विशेष ध्यान अकर्षित करने के लिए इस वर्ष की थीम को चुना गया हैं। हेल्थ केयर के लिए विश्वास बेहत जरूरी हैं। हेल्थ प्रोफेशनल्स में विश्वास एवं रोगियो के लिए स्वास्थ्य परिणामो के बीच एक महत्वपूर्ण सम्बन्ध हैं। आज फार्मासिस्ट डे मनाकर हम उन सभी फार्मासिस्टों को यह संदेश देते है कि वह हमारे लिए कितने जरूरी है। 

सीईओ आशीष बालियान ने बताया कि स्वास्थ के क्षेत्र में फार्मासिस्ट एक महत्वपूर्ण किरदार निभाता है। स्वास्थ्य विभाग में सुधार करने में अहम भूमिका निभाते है, अगर आज हम स्वस्थ है तो इसमें फार्मासिस्ट का अहम योगदान है। अभी हाल ही के उदारहण की बात करें तो दुनियाभर के फार्मासिस्ट कोरोनावायरस/कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए अथक प्रयासों में जुटे हुए है। फार्मासिस्ट ड्रग मैन्यूफैक्चरर कंपनियो से जुड़े प्राइवेट व सरकारी संस्थानों, डिस्पेंसरी और मेडिकल स्टोर आदि में काम करते है। डॉक्टरों द्वारा लिखी दवाओं की डिलीवरी का काम भी फार्मासिस्ट करते है। फार्मासिस्ट मेडिकल रिप्रजेंटेटिव का कार्य भी करते है। फार्मेसी विभाग के प्राचार्य अलीमुद्दीन सैफी ने बताया कि महादेव लाल श्रॉफ को भारत में फार्मेसी का जनक उनके फार्मेसी के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए कहा जाता है। हमारे और आपके स्वस्थ जीवन का मूल मंत्र डॉक्टर्स के साथ-साथ फार्मासिस्ट भी है। इसलिए हमें डॉक्टरों के साथ ही फार्मासिस्टों का भी सम्मान करना चाहिए और विश्व फार्मासिस्ट दिवस को उत्साह और सम्मान के साथ मनाना चाहिए।

इस अवसर पर संस्थान के निदेशक अंकुश शर्मा, बिजेन्द्र सिंह, संजीव सैनी, रेनू चौधरी, नेत्रपाल सिंह, इंदू मित्तल, आरती भाटी, मौ0 आसिफ, हुजैफा,  दीपा, अम्बिका, जितेन्द्र राघव, उत्तम सिंह, शिवा कुमारी, अरविन्द कुमार, विकास कुमार एवं प्रवीण कुमार आदि उपस्थित रहें।


अहमद हुसैन

True story

Popular posts from this blog

गोरखपुर के कलक्टर विजय किरण आनंद व SSP पर NHRC में केस दर्ज

सिटी सेंटर में हुई लाखो की चोरी का खुलासा, महिला सहित 5 अरेस्ट, 31 मोबाइल व नकदी बरामद

चाऊमीन खिलाने के बहाने घर से बुलाकर ले गए युवक की दोस्तों ने ही सिर में गोली मारकर हत्या