देश में तेजी से बढ़ किडनी रोग के मामले: डा. वरूण वर्मा

 


-मैक्स हॉस्पिटल पटपड़गंज नई दिल्ली ने मेरठ में शुरू की ओपीडी की सेवाएं 

मेरठ। मैक्स हॉस्पिटल पटपड़गंज नई दिल्ली ने शुक्रवार से मेरठ में किडनी संबंधी बीमारियों पर मरीजों को विशेषज्ञ डॉक्टर की सलाह देने के लिए ओपीडी सेवाएं शुरू कर दी। इस मौके पर मैक्स हॉस्पिटल में एसोसिएट डायरेक्टर नेफ्रोलॉजी डॉ. वरुण वर्मा ने कहा कि शहर में किडनी संबंधी समस्याओं पर परामर्श के लिए एक विशेष ओपीडी की बेहद जरूरत थी। 

उन्होंने जोर देकर कहा कि किडनी की सेहत बनाए रखने के लिए नियमित डॉक्टरी सलाह और जांच बहुत महत्वपूर्ण है। देश में डायबिटीज और हाइपरटेंशन के बढ़ते मामलों के बीच किडनी रोग के मामले भी तेजी से बढ़े हैं। किडनी खराब होने का सबसे बड़ा कारण डायबिटीज और हाइपरटेंशन ही है लेकिन सही समय पर इसकी डायग्नोसिस और फिर नियमित रूप से इलाज कराने से इस रोग से बचा जा सकता है। इतनी बड़ी आबादी वाले हमारे देश में बेहतर स्वास्थ्य का अभाव है इसलिए लोगों को इलाज कराने के बजाय रोगों से बचाव करने पर ही ध्यान देना होगा। डॉ. वरुण वर्मा ने कहा, 'लोग अक्सर दर्द, वजन में कमी, भूख की कमी, टांगों, हाथ या एड़ियों में सूजन, आंखों के नीचे सूजन, सांस उखड़ने, थकान, यूरीन में ब्लड, रात में बार—बार पेशाब के लिए जाने की शिकायत, नींद में दिक्कत, त्वचा शुष्क होने और खुजलाहट होने जैसी शिकायतें लेकर हमारे पास आते हैं। ये सभी सीकेडी के ही लक्षण हैं। इन लक्षणों की शुरुआती तौर पर पहचान कर ली जाए तो हर उम्र के लोगों का खर्च और जीवन बच सकता है। यदि स्वस्थ व्यक्ति भी नियमित रूप से जांच कराते रहें तो उनमें गंभीर रूप से बीमार पड़ने की नौबत बहुत कम आती है।' इन्हीं सबको देखते हुए मेरठ की यह ओपीडी पहले से पीड़ित लोगों के लिए लाभकारी होगी जिन्हें नियमित परामर्श लेने की जरूरत है। इससे उन्हें दूसरे शहर में जाकर डॉक्टरी सलाह लेने से छुटकारा मिल जाएगा और उनका समय और धन भी बचेगा। 

शुरूआत में कम नजर आते हैं लक्ष्ण

डॉ. वर्मा कहते हैं, 'किडनी की समस्याएं विशेष तरह की होती हैं और इसके शुरुआती चरणों में बहुत कम लक्षण दिखते हैं। यह कई कारणों से हो सकता है और स्वस्थ दिखने वाले व्यक्ति को भी खराब हो रही किडनी का पता नहीं चल पाता है जब तक कि कोई गंभीर स्थिति न उत्पन्न हो जाए। 

इन कारणों से बिगड़ती है किड़नी की सेहत

किडनी की सेहत बिगड़ने के कई कारण हैं जिनमें अल्कोहल सेवन, मादक पदार्थों का सेवन, गंभीर स्तर का डिहाइड्रेशन, असंतुलित खानपान और दर्दनिवारक दवाइयों को बेहिसाब इस्तेमाल करना आदि शामिल हैं। हमारा लक्ष्य इस रोग का प्रभावी प्रबंधन और मरीजों को अपने आसपास ही विशेष चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराना है। यह अस्पताल साक्ष्य आधारित दिशानिर्देशों का पालन करते हुए अत्याधुनिक संसाधनों से किडनी रोग का किफायती इलाज करने के लिए प्रतिबद्ध है।

Popular posts from this blog

गोरखपुर के कलक्टर विजय किरण आनंद व SSP पर NHRC में केस दर्ज

सिटी सेंटर में हुई लाखो की चोरी का खुलासा, महिला सहित 5 अरेस्ट, 31 मोबाइल व नकदी बरामद

चाऊमीन खिलाने के बहाने घर से बुलाकर ले गए युवक की दोस्तों ने ही सिर में गोली मारकर हत्या