स्याना पुलिस निभा रही है दो फर्ज : ड्यूटी और इंसानियत


बुलन्दशहर/स्याना (शब्बीर अहमद सैफी/एड्वोकेट इमरान खान): कोरोना संक्रमण के चलते लॉक डाउन की स्थिति में लोग बेरोजगार हो रहे है। इस स्थिति में रोजाना कमाने खाने वाले दिहाड़ी मजदूरों के सामने खाने पीने की समस्या पैदा हो गई है। इस विषम परिस्थिति में स्याना पुलिस दो फर्ज निभा रही है। पहला फर्ज अपनी ड्यूटी और दूसरा फर्ज इंसानियत का। ऐसा ही एक मामला गांव देहरा में देखने को मिला। 
      स्याना थाना पर तैनात एसएसआई राजबहादुर राठी को संपर्क सूत्र से ज्ञात हुआ क़ि निकटवर्ती गांव देहरा में एक परिवार की महिला व उसके बच्चे भूख से तड़प रहे है। उक्त दरोगा जी ने आव देखा न ताव रात्रि में ही उस महिला के परिवार के लिए खाना पैक कराकर और राशन सामग्री इकट्ठा करके उनके घर पर दस्तक दे दी। भूख प्यास से तड़पती महिला ने अपने दरवाजे पर खाने पीने की वस्तु दरोगा जी के द्वारा देने पर पहले तो उसे यकीन ही नही हुआ कि पुलिस का यह रूप भी हो सकता है। फिर महिला ने खाना लेकर ईश्वर को धन्यवाद देते हुए दरोगा जी को खूब दुआएं दी। विपदा की इस घडी में पुलिस के ऐसे किए जा रहे काम को लोग सराह रहे हैं।
      एसएसआई राजबहादुर राठी ने कहा कि पुलिस ऐसे लोगों की मदद करने के लिए हमेशा तैयार है। सभी लोगों को गरीब, जरूरतमंद लोगों की ऐसे वक्त में मदद करनी चाहिए। भविष्य में भी हमे ऐसी सूचना मिलने पर हम हर स्तर से लोगों की मदद करने के लिए तैयार है।