शार्ट सर्किट से घर मे लगी भीषण आग,सब कुछ जलकर राख हुआ

 


घर के सदस्यों ने बाहर निकलकर जान बचाई।


लॉक डाउन के कारण आर्थिक तंगी झेल रहे परिवार पर घर मे आग लगने से टूटा कहर।


पुत्री की शादी के लिए एकत्र किया गया सामान भी जलकर राख हुआ।


नईम चौधरी


मीरापुर।  कस्बे के मोहल्ला तहबलपुरा में शार्ट सर्किट के कारण एक व्यक्ति के घर मे भीषण आग लग गई।आग से घर का सारा सामान जलकर राख हो गया।आग की बढ़ती लपटों से घर के सदस्यों ने बाहर निकलकर अपनी जान बचाई।आसपास के लोगों ने कई घण्टे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया।पीड़ित के परिजनों को रो रोकर बुरा हाल है।
मीरापुर के मोहल्ला तहबलपुरा निवासी बब्बू पुत्र बाबू प्राइवेट बस पर परिचालक है।लॉक डाउन के चलते आर्थिक तंगी से जूझ रहा बब्बू फिलहाल सब्जी बेच रहा है।शुक्रवार की सुबह बब्बू के घर के ऊपरी हिस्से में बने कमरे में शार्ट सर्किट से आग लग गई।इसी कमरे में बब्बू ने अपनी पुत्री की शादी के लिए एकत्र किया गया सामान रख रखा था।आग ने कुछ ही देर में विकराल रूप धारण कर लिया।और घर के अन्य हिस्सों को भी अपनी चपेट ले लिया।तथा पूरे घर मे आग फैल गयी।आग की बढ़ती लपटों के चलते घर मे मौजूद बब्बू के परिवार के सदस्यों में भगदड़ मच गई सभी घर से बाहर निकल आये।आग की भयंकर लपटे देख मोहल्ले में अफरा-तफरी मच गई।आसपास के सैकड़ो लोग मौके पर जमा हो गए।तथा पुलिस व फायर बिग्रेड को आग की सूचना दी।सूचना पर पुलिस भी मौके पर पहुँच गई।कई घन्टो की कड़ी मशक्कत के बाद मोहल्लेवासियों ने पानी डालकर आग पर काबू पाया।किन्तु तक तक सब कुछ जलकर राख हो चुका था। आग से बब्बू  के घर का सारा फर्नीचर, कपड़े,बर्तन समेत घर के दरवाजे तक जलकर राख हो गए।पीड़ित के अनुसार उसकी पुत्री की शादी के लिए एकत्र किया गया लाखों का सामान भी जलकर राख हो गया।लॉक डाउन के चलते आर्थिक तंगी से जूझ रहे परिवार पर आग कहर बनकर टूट पड़ी।परिजनों को रो रोकर बुरा हाल हो गया। मोहल्लेवासियों ने जिलाधिकारी से पीडित को मुआवजा दिए जाने की मांग की है.


सूचना के घन्टो बाद आग बुझने के बाद पहुँची फायर बिग्रेड की गाड़ी।
मीरापुर।संवाददाता-मीरापुर के मोहल्ला तहबलपुरा निवासी बब्बू  के घर मे लगी आग से पूरे मोहल्ले में भगदड़ मच गई थी सैकड़ो लोग मौके पर आग बुझाने के लिए मदद में जुट गए थे।इसी बीच आग लगने की सूचना फायर बिग्रेड को भी सूचना दी गयी।किन्तु दो घण्टे बाद तक भी फायर बिग्रेड की गाड़ी मोके पर नही पहुँची।जब मोहल्लेवासियों ने आग पर काबू पा लिया उसके भी एक घण्टे बाद फायर बिग्रेड की गाड़ी मोके पर पहुँची।यदि फायर बिग्रेड की गाड़ी समय पर पहुच जाती तो आग से काफी सामान बचाया जा सकता था।