क़्वारेंटाइन सेंटर में प्रवासी मजदूर की बेटी की मौत

 


बुलन्दशहर (शब्बीर अहमद सैफी): लॉकडाउन के चलते प्रवासी मजदूरों का पैदल चलना अभी थाम नही रहा है। कल रात में अपने गृह जनपद हरदोई को निकला प्रवासी मजदूर के परिवार को सिकन्द्राबाद के टोल प्लाजा पर रोक कर उन्हें क़्वारेंटीन सेंटर ककोड़ भेज दिया गया था। बीमारी के चलते मजदूर की 18 वर्षीय पुत्री की मौत हो गयी। 
     हरदोई के गजाधरपुर टडियावा निवासी फूल सिंह पुत्र शिवसागर परिवार सहित ग्रेटर नोएडा के देवला में किराए पर रहता था और मजदूरी करता था। लॉकडाउन के चलते रविवार को अपने परिवार के साथ पैदल ही अपने गाँव गजाधारपुर टडियावा को निकल पड़ा। जैसे ही वह टोल प्लाजा सिकन्द्राबाद पहुँचा तो पुलिस ने उसे रोककर वैर स्थित सैनी फार्म हाउस क़्वारेंटीन सेंटर में भर्ती करा दिया। 
     प्रशासन के अनुसार मृतक आरती करीब 5 महीने से बीमार थी। परिजनों ने इस बात को छुपाये रखा। स्वास्थ्यकर्मियों द्वारा क़्वारेंटीन में पूछने के बाद भी आरती की बिमारी के बारे में नही बताया। आज शाम करीब साढ़े पांच बजे आरती की मौत हो गयी। मौत की सूचना पर क़्वारेंटीन सेंटर में हड़कंप मच गया। आनन फानन में अफसरों सहित पुलिस मौके पर पहुँची। बताया जाता है कि घर जाने के डर से बीमारी के तथ्य को छुपाने की बात सामने आई है। आरती के पिता ने उसकी बीमारी के सारे कागज पेश किये। युवती के शव को परिजनों की इच्छानुसार एम्बुलेंस 108 के द्वारा गृह जनपद हरदोई के लिए रवाना कर दिया गया है। एतिहात के तौर पर युवती का सैंपल कोरोना जाँच के लिए लिया गया है।