फेस मास्क न पहनने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ होगी कार्रवाई :- जिला अधिकारी

संजय वर्मा
०सीएमओ ने दी एसी न चलाने की सलाह
 मेरठ ।  जिला प्रशासन ने फेस मास्क न पहनने वाले लोगों के खिलाफ सख्ती बरतने की बात कही है। जिला अधिकारी अनिल ढीगड़ा ने कहा है कि अब ऐसे अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी जो मास्क नहीं पहनेंगे। इसके लिये जिला अधिकारी की ओर से दिशा निर्देश जारी किये गये हैं। उधर मुख्य चिकित्सा अधिकारी सीएमओ डा राजकुमार ने लोगों को एसी का इस्तेमाल नहीं करने की सलाह दी है। उन्होंने बताया जनपद के हॉस्पिटल, नर्सिंग होम और पैथेलॉजी लैब में सेंट्रलाइज्ड एसी चलाने पर शासन स्तर से रोक लगाई गई है।
  मेरठ में कोविड-19 के संक्रमण को रोकने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन के बीच एक ओर जहां पुलिस के साथ प्रशासनिक अधिकारी-कर्मचारी लगातार अपनी ड्यूटी पर डटे हुए हैं तो वहीं कई अधिकारी और कर्मचारी ड्यूटी के दौरान भी मास्क का प्रयोग नहीं कर रहे हैं, जिसके चलते जिला अधिकारी ने फेस मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है। उन्होंने मास्क का प्रयोग नहीं करने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों पर कार्रवाई की चेतावनी दी है।
जिलाधिकारी ने जिले के सभी विभागों को निर्देश जारी करते हुए कहा है कि कोविड-19 जैसी महामारी से बचाव के लिए बेहद महत्वपूर्ण जिम्मेदारी निभा रहे अधिकारियों और कर्मचारियों की स्वयं की सुरक्षा भी बहुत जरूरी है। फेस मास्क का प्रयोग नहीं करने पर कोरोना वायरस के सक्रमण को फैलने से इनकार नहीं किया जा सकता। ऐसे में फेस मास्क को अनिवार्य किया जाता है और जो भी अधिकारी या कर्मचारी फेस मास्क पहनने के निर्देश का उल्लंघन करेंगे, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। बता दें जिले में अब तक कोरोना से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 105 तक पहुंच गया है।
उधर मुख्य चिकित्सा अधिकारी सीएमओ डा. राजकुमार ने लोगों को अभी एसी का इस्तेमाल नहीं करने की सलाह दी है। उन्होंने बताया जनपद में हॉस्पिटल, नर्सिंग होम और पैथेलॉजी लैब पर सेंट्रलाइज्ड एसी चलाने पर शासन स्तर से रोक लगाई जा चुकी है। इस संबंध में सभी निजी अस्पतालों को एडवाइजरी जारी कर दी गई है। सीएमओ ने कहा यदि कोई निजी अस्पताल सेंट्रलाइज्ड एसी का प्रयोग करता है तो स्वास्थ्य विभाग की ओर से उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। सीएमओ ने कहा सेंट्रलाइज्ड एसी की हवा पूरे अस्पताल में सर्कुलेट होती है, ऐसे में संक्रमण के फैलने की आशंका बढ़ जाती है। उन्होंने आम लोगों को अपने घर में भी एसी का इस्तेमाल न करने की सलाह दी है। उनका कहना है कि अभी मौसम बदल रहा है और ऐसे में अक्सर बीमार पडऩे की आशंका रहती है। लिहाजा थोड़े दिन एहतियात बरतना जरूरी है।


  मेरठ में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या १०५ पहुंची
  ० कोरोना से मौत  का आकंडा ६ पहुंचा
 नये इलाकों से मिल रहे संक्रमित से स्वास्थ्य विभाग परेशान    
 मेरठ । कोरोना संक्रमित मरीजों से स्वास्य विभाग को राहत नहीं मिल पा रही है। अब देवपुरी, रविन्द्र पुरी व ब्रहमपुरी क्षेत्र से तीन कोरोना से संक्रमित मरीज मिलने से इनकी संख्या १०५ जा पहुुंची है। वहीं कोरोना से मरने वालों  की संख्या ६ पहुंच गयी है। दिल्ली के अपोलो अस्पताल में भी दिल्ली रोड के श्रीराम पैलेस के एक फल विक्रेता की मौत हो गयी है।  स्वास्थ्य विभाग ने पुलिस के साथ मिल कर भूमिया का पुल ,सदर की रविन्द्र पुरी, श्रीराम पैलेस  व देवपुरी का सील कर दिया है। इसमें एक डेयरी संचालक , एक वेज बिरयानी का ठेला लगाने वाला युवक है। टीम उनके कान्टेक में आये लोगों  को तलाश करने में जुटी है।
  जिला सर्विलांस अधिकारी डा. विश्वास चाौधरी ने बताया कि जिले में तीन नये मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है। तीनों ब्रहमपुरी भूमिया का पुल, सदर स्थित रविन्द्र पुरी, व देवपुरी के है। उन्होने बताया देवपुरी वाला संक्रमित व्यक्ति डेरी संचालक है। भूमिया का पुल वाला संक्रमित व्यक्ति वेज बिरयानी का ठेला लगाता था। उन्होने बताया देोनो के सम्पर्क में आये लोगों की तलाश करने के साथ पूरे क्षेत्र को सील कर दिया गया है। इसके अतिरिक्त भाजपा के नेता की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के  बाद भाजपा के ६७ लोगों को होम क्वरेंटाइन किया गया है।सभी को  नोटिस जारी करते प्रशासन की ओर से आगामी १२ मई तक होम क्वारेंटाइन रहने के आदेश दिये है।
  कोरोना से होने वाली छटी मौत
  जिला सर्विलांस अधिकारी डा विश्वास चौधरी ने बताया रमेश चन्द्र निवासी श्रीराम पैलेस फल विक्रेता था। उनकी तबियत खराब होने पर परिजनो ने दिल्ली के अपोला हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। जहां पर उनक ो कोरोना का संक्रमण मिला था। शुक्रवार को उनकी अस्पताल  में मौत हो गयी। उन्होने बताया परिवार सभी सदस्यों को क्वारेटाइन कर दिया गया है। परिवार के सभी सदस्यों के सैंपल  लेने की तैयारी की जा रही है।
 स्चास्थ्य विभाग की बढी परेशानी
 देवपुरी वाले , श्रीराम पैलेस व ब्रहमपुरी वाले वेज बिरयानी का ठेला लगाने वाले में कोरोना के संक्रमण मिले है। जिसमें फल विक्रेता की मौत हो गयी है।  स्वास्थ्य विभाग का इस बात की चिंता सता रही है। उनके सम्पर्क में कितने लोग आये। कितने लोगों ने उनसे दूध दिया व बेज बिरयानी खायी व कितने लोगो ने फलो को खाया है  है। ऐसे लोगों को तलाश करना काफी मुश्किल हो गया है। देवपुरी में  डेरी संचालक से दूध हेने वाले लोगों मेंहडकंप मच गया है। लोगों को अपने केा संक्रमित होने की चिंता सता रही है।
 आगरा में २४ घंटे में ७४ संकमित मरीज मिलने से लखनऊ तक हडकंप
  प्रदेश में टॉप चल रहे आगरा मेें कोरोना से संक्रमित मरीजों का थमने का नाम नहीं ले रहा है। २४ घंटे के दोरान आगरा में ७४ कोरोना से संक्रमित मरीज मिले है। वहां पर कोरेाना से संक्रमित मरीजों की संख्या ४७८ जा पहुंची है।    


Popular posts from this blog

गोरखपुर के कलक्टर विजय किरण आनंद व SSP पर NHRC में केस दर्ज

सिटी सेंटर में हुई लाखो की चोरी का खुलासा, महिला सहित 5 अरेस्ट, 31 मोबाइल व नकदी बरामद

चाऊमीन खिलाने के बहाने घर से बुलाकर ले गए युवक की दोस्तों ने ही सिर में गोली मारकर हत्या