जम्मू कश्मीर के हंदवाड़ा में बुलन्दशहर का सपूत शहीद, गाँव परवाना में शोक की लहर

शब्बीर अहमद सैफी


बुलन्दशहर : जम्मू कश्मीर के हंदवाड़ा में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ में एक मेजर समेत पांच सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए। 
     पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने कर्नल शर्मा और उनकी टीम ने आतंकियों द्वारा बंधक बनाए गये नागरिकों को बहादुरी से मुक्त करा लिया। मुठभेड़ में शहीद हुए कर्नल आशुतोष शर्मा मूलरूप से जनपद बुलन्दशहर खानपुर थानांतर्गत गांव परवाना के निवासी थे। गांव में  उनके शहीद होने की सूचना पर शोक की लहर है। भारतीय सेना के कर्नल, मेजर, दो जवान और एक जम्मू कश्मीर पुलिस का जवान शहीद हो गया। इस मुठभेड़ में दो आतंकियों को मार गिराया गया। भारतीय सेना  के 21 राष्ट्रीय राइफल्स के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल आशुतोष शर्मा समेत पांच शहीद हो गए। 
    बताते चले कि शहीद कर्नल आशुतोष शर्मा मूलरूप से उत्तर प्रदेश के बुलन्दशहर जनपद के खानपुर थानांतर्गत गांव परवाना के निवासी थे। इनका जन्म बुलन्दशहर के राधानगर में हुआ था। इनकी शिक्षा बुलन्दशहर के डी०ए०वी इण्टर कॉलेज से तथा ग्रेजुएशन डी०ए०वी०  डिग्री कॉलेज बुलन्दशहर से हुई। कर्नल आशुतोष शर्मा 15 साल पहले राजस्थान के जयपुर में बस गए थे। बताया जाता है कि इस दौरान कर्नल आशुतोष शर्मा, मेजर अनुज सूद, जम्मू कश्मीर पुलिस के उप निरीक्षक शकील काज़ी समेत पाँच बहादुर सुरक्षाकर्मी कर्तव्य पालन करते हुए शहीद हो गए। कर्नल शर्मा 21 राष्ट्रीय राइफल्स के  कमांडिंग ऑफिसर थे तथा उन्हें कश्मीर में दो बार वीरता पदक से सम्मानित किया जा चुका था। अधिकारियों ने बताया कि एक श्रद्धांजलि सभा के बाद कर्नल शर्मा के पार्थिव शरीर को उत्तर प्रदेश के बुलन्दशहर ले जाया जाएगा। जनपदवासी बुलन्दशहर के लाल के शहीद होने पर ग़मज़दा हैं। परवाना गांव में लोग परेशानहाल व दुखी हैं।