रमजान के मुबारक पाक माह में लॉकडाउन के चलते सभी मुस्लिम भाई अपनी तराबीह पढ़ने का एहतमाम अपने घरों पर ही करें।

बुलन्दशहर (शब्बीर अहमद सैफी/एड्वोकेट इमरान खान): रमजान के मुबारक पाक माह में लॉकडाउन के चलते सभी मुस्लिम भाई अपनी तराबीह पढ़ने का एहतमाम अपने घरों पर ही करें। किसी भी हालत में मस्जिद की तरफ न दौड़ें। शहर कांग्रेस कमेटी के पूर्व शहर अध्यक्ष सैयद मुनीर अकबर ने अपने प्रेस विज्ञप्ति में कहा है कि रमजानुल मुबारक सब्र का महीना हैं। इस बार लॉकडाउन की वजह से सब्र और करना है, वो सब्र हैं मस्जिद की मुहब्बत और रौनक का। सरकार के ऐलान के वजह से नमाजे और तरावीह अपने घरों में ही पढ़नी पड़ेगी। यही मोमिन के सब्र का इम्तिहान हैं। चाहे बिरादराने इस्लाम के दिल मस्जिदों के लिए तड़पेगे, लेकिन सब्र करना हैं। अल्ल्लाह इन्सान की नीयत देखता है और सारे आमाल का दारोमदार नीयत पर ही टिका है और यह महीना है ही गरीबों और कमजोर की हर मुमकिन मदद करना। उनके गमों दूर करना। इन सब बातों के साथ उन्होंने मुस्लिम समुदाय के सभी लोगों से अपील की है कि वे लॉकडाउन का पालन कर देश सेवा में भी पूर्ण रूप से योगदान दें।