लॉक डाउन में श्रमिकों का पालन- पोषण भी हमारी जिम्मेदारी: दुर्गा वर्मा


 कोरोना वायरस की महामारी से बचाव में राजनेता, सामाजिक संस्थाओं एवं उद्योगपतियो को लोगों की सहायता में आना चाहिए आगे


इमरान चौधरी
देहरादून। देश व प्रदेश में कोरोनावायरस संक्रमण की महामारी से बचाव के लिए देश के सक्षम लोगों को बढ़-चढ़कर आगे निकलना चाहिए और हर किसी श्रमिकों को अपनी सहायता देकर उसे व उसके परिवार को महामारी से बचाने में सहायता करनी चाहिए। निर्धन वह लाचार परिवारों की लॉक डाउन के बीच राजनेता, उद्योगपति एवं समाजसेवीको को  आगे आकर अपने कर्तव्य को समझ कर हर किसी की मदद में जुटना चाहिए। जिससे मानव जाति जाति का कल्याण हो सके।
कोरोना वायरस की महामारी से बचाव के लिए किए गए प्रधानमंत्री द्वारा देशभर में लॉक डाउन को देखते हुए दुर्गा कंपनीज एवं सिद्धार्थ लॉ कॉलेज के चेयरमैन दुर्गा वर्मा ने true story सेे  बातचीत करते हुए कहा कि कि मुसीबत की इस घड़ी में हर किसी को अपना हाथ आगे बढ़ाना चाहिए। कोरोना वाइरस संक्रमण के साथ हुई इस जंग में उद्योगपति, समाजसेवी एवं राजनेताओं को अपने श्रमिकों को की रक्षा करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि हिटलर जैसे शासक ने अपने श्रमिकों का सम्मान किया था। दुर्गा वर्मा ने लॉक डाउन के दौरान गरीब लोगों की मदद में अपना हाथ बढ़ाते हुए एक सार्वजनिक किचन चलाकर शासन -प्रशासन के लोगों के साथ मिलकर लोगों के साथ मिलकर लोगों को घर-घर खाने के पैकेट पहुंचाने की मुहिम चलाई है।जिससे लॉक डाउन के दौरान गरीब एवं लाचार लोगों की मदद की जा सके। उन्होंने कहा कि राजनेता एवं उद्योगपतियों को भी ऐसे ही इस अब्दा  की घड़ी में एक दूसरे की परेशानियों को समझ कर अपने कर्तव्य का पालन करना चाहिए।जिससे  देश एवं प्रदेश में महामारी के इस संक्रमण से लड़ा जा सके। उन्होंने कहा कि पुलिस प्रशासन अपनी जिम्मेदारियों को समझकर अपनी जिम्मेदारियों को समझकर लोगों की सेवा में जुटा है तो फिर है तो फिर बड़े पदों पर बैठे एवं समाज पर अपना हक जमाने वाले लोग इस काल काल की घड़ी में एक दूसरे की मदद करने के लिए आगे क्यों नहीं आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि  लॉक डाउन का कोरोना वायरस से बचाव के लिए समर्थन करते हैं और हर किसी को अपने घर में रहकर इस लड़ाई में साथ देने की अपील भी कर रहे हैं। लेकिन सरकार को भी गंभीरता से सोच कर लोगों की सेवा के लिए किए गए आर्थिक मदद के एलान को डोर टू डोर पहुंचा कर अपने कर्तव्य का पालन करना चाहिए।जिससे हर आम जनमानस स्वस्थ रह सकें। उन्होंने कहा कि सड़कों पर उमड़े लॉक डाउन डाउन के दौरान श्रमिकों के जनसमूह को रोकने में आखिर सरकार कामयाब क्यों नहीं हो रही है। इस तरफ भी हम और आप को को हम और आप को भी हम और आप को को ध्यान देना जरूरी है। लॉक डाउन को सफल बना कर कर कर को सफल बना कर कर कर अपने घरों में रहकर एक दूसरे की मदद करने से हम और आप कोरोना  वायरस पर अपनी फतेह पा सकते है। इस दौरान उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के बचाव के लिए चिकित्सकों द्वारा दिए गए दिशा निर्देश पर पर अमल करें और किसी को भी पैनिक होने की जरूरत नहीं है।