व्हाट्सएप का प्रयोग छात्रों को पढ़ाई से कर रहा दूर, बच्चे किताबों पर कम ध्यान दे रहे हैं, जबकि व्हाट्सएप ग्रुप में अधिक समय बिता रहे हैं

मुज़फ्फरनगर। व्हाट्सएप का प्रयोग छात्रों को असामाजिक ही नहीं, बल्कि पढ़ाई से भी दूर कर रहा है। बच्चे किताबों पर कम ध्यान दे रहे हैं, जबकि व्हाट्सएप ग्रुप में अधिक समय बिता रहे हैं।शिक्षक भी कक्षा में पढ़ाई कराने की जगह व्हाट्सएप ग्रुप में ही होमवर्क की जानकारी दे रहे हैं। इससे पढ़ाई प्रभावित हो रही है। अभिभावकों ने इसकी शिकायत केंद्रीय विद्यालय संगठन से की है। शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए संगठन उपायुक्त ने सभी क्षेत्रीय कार्यालयों को मामले की जांच कर जवाब मांगा है।केंद्रीय विद्यालय संगठन की शैक्षिक उपायुक्त इंदु कौशिक ने सभी क्षेत्रीय कार्यालयों व प्रिंसिपलों को पत्र लिखा है। पत्र में उन्होंने अभिभावकों द्वारा की गई शिकायतों का हवाला भी दिया है। अभिभावकों की शिकायत है कि केंद्रीय विद्यालयों के छात्र-प्राचार्य के निर्देशानुसार स्मार्ट फोन का प्रयोग करते हैं। 
छात्रों को स्मार्टफोन पर होमवर्क शेयर किया जाता है। शिक्षकों को जो भी सूचना देनी होती है वो सीधे व्हाट्सएप पर ही दी जाती है। इसके कारण छात्रों का अधिकतम वक्त मोबाइल फोन और व्हाट्सएप के प्रयोग में जाता है। इससे स्कूलों में शिक्षा का स्तर गिर रहा है।