फर्जी है मौलाना अरशद के नाम से वायरल हो रही यह चिट्ठी, नही लिखा सोनिया को खत


नई दिल्लीः जमीयत उलमा-ए-हिंद के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलना अरशद मदनी के नाम से लिखी गई एक चिट्ठी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। यह चिट्ठी सोनिया गांधी के नाम लिखी गई है जिसमें सोनिया गांधी से कहा गया है कि कांग्रेस शिवसेना के साथ न जाए। लेकिन यह चिट्ठी फर्जी है। मौलाना अरशद मदनी ने द्वारा ऐसी कोई चिट्ठी नहीं लिखी गई है।
जमीयत उलमा-ए-हिंद की तरफ से इस चिट्ठी का खंडन भी किया गया है। जमीयत ने कहा है वायरल हो रही चिट्ठी को पूरी तरह फर्जी करार दिया है। जमीयत उलमा-ए-हिंद ने एक बयान जारी करके कहा कि यह चिट्ठी फर्जी है। जमीयत उलमा-ए-हिंद के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी के नाम से कोई भी लेटर जारी होता है तो उसमें मौलाना अरशद मदनी लिखा जाता है यानि राष्ट्रीय अध्यक्ष का पूरा नाम लिखा जाता है। जबकि इस चिट्ठी में सिर्फ अरशद मदनी लिखा है हुआ है। जमीयत उलमा-ए-हिंद की तरफ से जारी बयान मे कहा गया है कि जमीयत किसी भी पार्टी को राजनैतिक ख़त नहीं लिखती।