इंटरनेशनल सेक्स रैकेट का चौकाने वाला सच, देखते ही पुलिस अफसर भी हैरान,कनाडा से लेकर कई देशों में होती थी गर्म गोश्त की सप्लाई

सेक्स रैकेट का चोकाने वाला सच सामने आया है, कानपुर के नजीराबाद थाना क्षेत्र के लाजपत नगर में पकड़े गए सेक्स रैकेट के बाद एक के बाद एक नए खुलासे हो रहे हैं। पुलिस की जांच में पता चला है कि रैकेट संचालिका लवली चक्रवर्ती उर्फ बरखा मिश्रा बेबस युवतियों को जाल में फंसाकर उनसे देह व्यापार करवाती थी। अगर किसी ने छोड़ने का प्रयास किया तो वह जान से मारने से लेकर बदनाम करने की धमकी दी जाती थी।
कानपुर मैं तैनात सीओ नजीराबाद गीतांजलि सिंह के मुताबिक पकड़ी गईं चार युवतियों में से एक युवती अनाथ है। परिवार में केवल उसकी एक छोटी बहन है। सोशल मीडिया के जरिए बरखा से उसकी जान पहचान हुई थी। पैसे कमाने का लालच देकर बरखा ने रैकेट में शामिल किया। इसके बाद वह जाल से बाहर नहीं निकल पाई।बताते है कि एक युवती की बहन को किडनी की बीमारी है। पूछताछ में उसने बताया कि बहन के इलाज के लिए लाखों रुपये की जरूरत है। इसलिए वह ऐसा काम कर रही थी। बरखा ने भी उसे मोटी रकम देने के बात कही थी लेकिन अब उसे न तो अधिक पैसे दे रही थी और न ही वापस जाने दे रही थी।


13 जगह सक्रिय था सेक्स रैकेट
समय के साथ कॉलगर्ल और संचालिका ने भी खुद को अपडेट कर लिया है। संचालिका के मोबाइल में फेसबुक, व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम, टेलीग्राम समेत 13 सोशल साइट्स पर सक्रिय था। संचालिका के व्हाट्सएप स्टेटस पर कई कॉल गर्ल का फोटो लगा था। साथ ही डीपी पर भी बदल-बदल कर कॉलगर्ल का फोटो लगाया जाता था। 


@कनाडा तक सप्लाई 
जांच में सामने आया है कि इस रैकेट का नेटवर्क दिल्ली और कई राज्यों समेत कनाडा तक फैला है। कॉलेज गर्ल से लेकर हर उम्र की लड़कियां सप्लाई की जा रही थीं। इसमें दिल्ली के एक प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी की छात्रा भी गिरफ्तार हुई है। सभी फ्लाइट से एक शहर से दूसरे शहर जाती थीं। 
45 हजार बंगले का रेंट
जांच में सामने आया कि सेक्स रैकेट संचालिका ने 45 हजार रुपए महीने के किराए पर लाजपत नगर जैसे पॉश इलाके में बंगला लिया था। बंगला ऐसी जगह था कि कोई भी शक नहीं कर सकता पर मोहल्ले के लोगों ने लड़कियों का आने-जाने पर संदेह होने के बाद शिकायत की।
#पकड़ी गई लड़कियों में एक टर्की की और तीन नेपाली मूल की हैं।आरोपियों के कब्जे से लाखों रुपये और जरूरी कागजात बरामद हुए हैं। एसएसपी यशस्वी यादव के अनुसार ठिकानों से मिले अभिलेखों में इस धंधे से जुड़ी कई युवतियों और उनके ग्राहकों की जानकारी मिली है। इनमें कई सफेदपोश के नाम भी सामने आये हैं। देर रात तक लड़कियों से पूछताछ जारी रही। छापामारी से शहर में हड़कंप रहा। वहीं थानों में सिफारिश के फोन भी आते रहे।


Popular posts from this blog

गोरखपुर के कलक्टर विजय किरण आनंद व SSP पर NHRC में केस दर्ज

सिटी सेंटर में हुई लाखो की चोरी का खुलासा, महिला सहित 5 अरेस्ट, 31 मोबाइल व नकदी बरामद

सिटी सेंटर में 5 दुकानों के शटर फाड़कर लाखो की चोरी, CC कैमरे में कैद हुए बदमाश