बलात्कारी का नाम हाथ पर लिखकर फांसी के फंदे पर लटक गई लड़की

मुज़फ्फरनगर के छपार क्षेत्र के गांव बढीवाला निवासी युवती ने तनाव के चलते गले में रस्सी का फंदा लगाकार आत्महत्या कर ली। परिजनों ने घंटों बाद पुलिस को सूचना दी। युवती के हाथ पर बलात्कारी का नाम भी वह हाथ पर लिख गई।सीओ सदर कुलदीप कुमार फोरेंसिक टीम को लेकर मौके पर पहुंचे ओर गहनता से शव की जांच की। पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।


  शनिवार को दोपहर लगभग बारह बजें गांव बढीवाला निवासी सुभाष कश्यप की इक्कीस वर्षीय पुत्री मन्नू अपने घेर में गले में रस्सी बांधकर छत में लगे बांस से लटक कर आत्महत्या कर ली। उसका पिता घर पर ही परचून की दुकान करता है। उसकी पत्नी जंगल में चारा लेने गई हुई थी उसने घेर में जाकर देखा तो मन्नू का शव लटक रहा है उसने अपने पति को बताया। मौहल्ले के लोग इकठ्ठा हो गये। उन्होंने शव को रस्सी काटकर नीचे उतारा ओर घंटों बाद पुलिस को सूचना दी। जिसपर सीओ सदर कुलदीप कुमार फोरेंसिक टीम को लेकर मौके पर पहुंचे। छपार थाना प्रभारी एचएन सिंह भी मयफोर्स के पहुंचे ओर मृतका के पिता की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मृतका के पिता ने तहरीर में बताया कि उसकी सुसराल मेरठ के थाना दौराला गांव बडकली में है। चार वर्ष पूर्व मृतका वहां गई हुई थी। मौका पाकर उसके मामा बिरजू ने जबरन बलात्कार किया। जिसका मामला थाने में दर्ज न होने के कारण फैसला किया गया। मन्नू तब से ही फैसले से नाराज थी ओर तनाव में रहती थी। उसी के चलते उसने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। सीओ सदर कुलदीप कुमार का कहना है कि मामले के प्रत्येक बिन्दु पर जांच की जायेगी। एक वर्ष पूर्व भी रोहाना खामपुर मार्ग पर राजबाहे के पास उसे रिक्शा से उतारकर गांव के ही तीन युवकों ने जबरन बलात्कार किया था। जिसका मुकदमा सदर कोतवाली में दर्ज है ओर तीनों युवक जेल से जमानत पर छूट चुके है।