10 दिन के अभियान में खोजे 172 TB के मरीज

 


  मेरठ(रविता)। घर-घर टीबी रोगी खोज अभियान में जिले में 172 नये मरीजों की पहचान हुई है। इन मरीजों का स्वास्थ्य विभाग द्वारा उपचार शुरू कर दिया गया है। 10 अक्टूबर से 23 अक्टूबर तक चले अभियान में 2100 संदिग्ध मरीजों के बलगम के नमूनों की जांच की गयी। शहरी क्षेत्र में सबसे ज्यादा मरीज साबुन गोदाम व मलियाना क्षेत्र में मिले हैं।
 जिला क्षय रोग डा. एमएस फौजदार ने बताया शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में टीबी मरीजों की तलाश के लिये सन् 2017 से टीबी रोगी खोज अभियान चलाया जा रहा है। इसका छठा चरण 10 अक्टूबर 2019 से 23 अक्टूबर तक चलाया गया। इसमें 155 टीमों को लगाया गया। इस दैारान 4.44 लाख लोगों की स्क्रीनिंग की गयी। शहरी क्षेत्र में 2100 लोगों के बगलम के नमूने लिये गये। बलगम जांच में 172 लोगों में टीबी की लक्षण दिखाई दिये। इसमें 18 महिलाएं हैं। 3 नाबालिग हैं। इन मरीजों का तत्काल उपचार आरंभ कर दिया गया है। उन्होंने बताया ग्रामीण क्षेत्र के मवाना, रोहटा,सरधना,जानी, खरखौदा, हस्तिनापुर ,सिवालखास ब्लाक में भी सघन अभियान चलाया गया। इन क्षेत्रों में 1356 लोगों के बलगम की जांच की गयी, जिसमें से 88 लोगों में टीबी के लक्षण दिखाई दिये।
ये हैं टीबी के लक्षण
   डा. एमएस फौजदार ने बताया  दो सप्ताह से अधिक खांसी, बलगम आना, बलगम में खून आना, लंबे समय से बुखार आना, भूख न  लगना, वजन में लगातार गिरावट आना, सीने में दर्द होना टीबी के लक्षण हैं। इस मामले में लापरवाही न बरतें । अपने नजदीकी प्राथमिक व सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र अथवा जिला अस्पताल में इसकी जांच करायें।