लेखपालों ने दूसरे दिन भी दिया धरना


सरधना तहसील परिसर में लेखपाल संघ का धरना प्रदर्शन दूसरे दिन भी जारी।
,,,,,,,,
 जनपद कन्नौज में अधिवक्ताओं द्वारा लेखपालों पर जानलेवा हमला करने एवं महिला लेखपाल के साथ दुर्व्यवहार करने वाले दोषी  अधिवक्ताओं पर कार्यवाही किए जाने की मांग पर अड़े हैं। लेखपाल संघ ने  मुख्यमंत्री के नाम पांच सूत्रीय ज्ञापन  तहसीलदार को सौंपा। सरधना लेखपाल संघ के अध्यक्ष मनवीर सिंह ने बताया के 20 सितंबर को तहसील छिबरामऊ जनपद कन्नौज में अधिवक्ताओं द्वारा महिला लेखपाल से मारपीट की गई थी जिसको लेकर प्रदेश भर के लेखपालों में रोष और गुस्सा है
 तदुपरांत दोषियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर पुलिस ने एफ आई आर की परंतु दोषियों की गिरफ्तारी नहीं हुई 24 सितंबरको पुनः सैकड़ों की संख्या में वकीलों द्वारा कलेक्टर  परिसर में धरने पर बैठे लेखपालों पर हमला किया गया जिस पर लेखपालों को गंभीर चोट आई एवं महिला लेखपालों के साथ भी मारपीट एवं अभद्रता की गई  अब सब लेखपालों में भय व्याप्त है इसी कारण से लेखपाल संघ प्रदेश की समस्त350 तहसीलों में कार्य बहिष्कार करते हुए धरना प्रदर्शन करने को बाध्य हैं तहसीलदार को पांच सूत्रीय ज्ञापन में धरनारत लेखपाल संघ ने मांग की है के दोषी अधिकारियों की तत्काल गिरफ्तारी हो दोषी अधिवक्ताओं लाइसेंस बार काउंसलिंग से निरस्त कराया जाए अधिवक्ता द्वारा लेखपालों के विरुद्ध झूठी f.i.r. को निरस्त किया जाए जिलाधिकारी पुलिस अधीक्षक कन्नौज को तत्काल हटाया जाए ।आत्मरक्षा की दृष्टि से शस्त्र लाइसेंस आने वाले प्रदेश के इच्छुक लेखपालों को शस्त्र लाइसेंस दिया जाये।इस अवसर पर धरना देने वाले लेखपालों में रामलाल लेखपाल संघ सरधना सचिव सुरेश शर्मा .सुनील कुमार. सुशील गुप्ता .प्रवीन जैन शिव कुमार जैन .अशोक कुमार आदि रहे।