कश्मीरियों के साथ बैठकर हल करें मामला. ताकत के बल पर नही

सरकार कश्मीर के मामले में कश्मीरियो के साथ मिल बैठकर कर मामले को बातचीत से हल करे । ताकत की बुनियाद पर हरगिज नही.. मौलाना अशहद रशीदी 


मुज़फ्फरनगर में रविवार को मदरसा महमूदया सरवट में जमीयत उलमा जिला मुज़फ्फरनगर के मुन्तज़िमा (जनरल बॉडी) का इजलास सम्पन्न हुआ ।इजलास में नशे की रोकथाम व समाज सुधार कार्यक्रम चलाने मतदाता जागरूकता दीनी शिक्षा के साथ दुनियवी शिक्षा हासिल करने भीड़ द्वारा हो रही हत्याओं की रोकथाम के लिये कानून बनाने की मांग करते हुये विभिन्न प्रस्ताव पास किये गये। इजलास में कश्मीर के सिलसिले में कहा की सरकार कश्मीर के मामले में कश्मीरियो के साथ मिल बैठकर कर मामले को बातचीत से हल करे ताकत की बुनियाद पर हरगिज नही।
इजलास की अध्यक्षता मौलाना क़ासिम क़ासमी ने की  संचालन करते हुये मौलाना मुकर्रम क़ासमी ने इजलास के  उद्देश्यों पर प्रकाश डालते हुये सेक्रेटरी रिपोर्ट पेश की । इजलास के मुख्यअथिति रहे जमीयत उलमा-ए-हिन्द उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष मौलाना सय्यद अशहद रशीदी ने समाज मे फैल रही बुराइयों को दूर करने की अपील करते हुये कहा आज हमारे मुआशरे में बिगाड़ पैदा हो रहा है उसको दूर करे और समाज मे एक अच्छा नमूना पेश करे ओर अपने अपने अंदर से बिगाड़ को दूर करे उन्होंने कहा कि अल्लाह के बताए हुये हुक्म पर चले मौलाना ने कश्मीर के मुद्दे पर बोलते हुये कहा कि सरकार कश्मीर के मामले में कश्मीरियो के साथ मिल बैठकर कर मामले को बातचीत से हल करे ताकत की बुनियाद पर हरगिज नही। धारा 370 को हटाने में सरकार ने कानूनी अमल को पूरा नही किया। उन्होंने कहा कि कश्मीर भारत का हिस्सा है ओर कश्मीरी भी तो हमारे है उनका दर्द भी हमारा होना चाहिए सरकार उनपर अत्याचार ना करे उनको भी अपना समझा और बातचीत से मामले को हल करे  मौलाना ने कहा कि ताकत की बुनियाद पर मामले का हल होने वाला नही है मौलाना रशीदी ने जमीयत उलमा-ए-हिन्द के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं को निर्देश देते हुये कहा कि आज समाज मे जोड़ की आवश्यकता है उन्होंने कहा कि अमनो अमान को बढ़ावा देने के लिये हिन्दू ओर मुसलमान एक साथ मिलकर भाईचारे को बढ़ावा दे ओर साम्प्रदायिक शक्तियों के मिशन कामयाब होने ना दे।उन्होंने सरकार से मांग करते हुये कहा कि सरकार मोब्लिंचिंग के सिलसिले में क़ानून बनाये जिससे दोषियों को सजा मिले सके। जमियत उलमा के प्रदेश उपाध्यक्ष मौलाना नज़र मुहम्मद क़ासमी ने कहा कि जमीयत के पूर्वजो ने इस देश की स्वतंत्रता के लिये ऐसी क़ुर्बानी पेश की जिसको इतिहास भुला नही सकता है उन्होंने कहा कि  जमियत के वर्कर्स भी समाज में फेल रही बुराइयों को दूर करने के अभियान को घर घर चलाकर बुराइयों का खात्मा करे।मौलाना ताहिर क़ासमी ने जमियत के ओहदेदारों से अपील करते हुये कहा कि आप एक ऐसा नमूना पेश करे की लोग आप से सबक ले सके और समाज मे बेहतर बेहतर से सेवा कर सके।हाजी शाहिद त्यागी ने कहा कि दीनी शिक्षा के साथ साथ दुनीयवी शिक्षा भी अपने बच्चों को भी अवश्य दे।जिला अध्यक्ष मौलाना क़ासिम क़ासमी ने कहा कि इस वक्त देश के हालत बेहद नाज़ुक है  और मंहगाई आसमान छू रही है और समाज मे नफरत फैलाई जा रही है जिसको रोकना बेहद जरूरी है उन्होंने कहा कि जमियत उलमा हमेशा से प्यारो मुहब्बत के दामन को थाम के रखा है 
मौलाम शाहनवाज़ क़ासमी ने नशा रोकथाम अभियान चलाने व मौलाना इखलास ने मतदाता जागरूकता चलाने मौलाना मुज़फ्फरुल्लाह ने इस्लाहे मुआशरा व मौलाना अय्यूब मदारिस के सम्बंध में व मौलाना सय्यद साद ने मोब्लिंचिंग के सिलसिले में क़ानून बनाने आदि के सिलसिले में प्रस्ताव रखे जिसको सर्वसम्मति से पास किये गये इजलास में मौलाना नज़र मौ0 हाजी शाहिद मौलाना क़ासिम क़ासमी मौलाना ताहिर क़ासमी मौलाना इमरान हाजी अजीजुर्रहमान इक़राम कस्सार हाफिज शेरदीन मौलाना अब्दुल्लाह हाजी यूसुफ अकील अहमद हाफिज तहसीन मौ0 आसिफ क़ुरैशी कारी सलीम मेहरबान मौलाना रिज़वान हकीम उम्मीद अली कारी असरार मुफ़्ती अब्दुल कादिर क़ासमी राशिद मंसूरी इस्लाम इसरार क़ुरैशी तौहीद त्यागी मौलाना वकील डॉ शमीमुल हसन मौलाना अहमद मुफ्ती ज़ाहिद आदि मौजूद रहे.