ड्यूटी के साथ माँ का फ़र्ज़ भी

कहते हैं दुनिया मे सबसे बड़ा रिश्ता एक माँ और उसके बच्चे का होता है


गाजीपुर थाने में सिपाही के पद पर तैनात स्वास्ति सिंह चौहान आजकल हर जगह ड्यूटी पर कुछ ऐसे ही नजर आती हैं,*


परिस्थिति चाहें कैसी भी हो लेकिन वो अपने बच्चे को छोड़ नहीं सकती क्योंकि वो लखनऊ में अकेली रहती हैं ।


 और बच्चे की देखरेख करने वाला कोई नहीं हैं । जिसके चलते बच्चे की देखभाल करने के लिए स्वास्ति को बच्चे को हमेशा अपने साथ रखना पड़ता है ।


 स्वास्ति से जब होने वाली दिक्कतों के बारे में पूछा तो उनका जवाब था कि मैं एकसाथ दो फर्ज निभा रही हूं, सिपाही होकर देश के लिए और माँ होकर अपने बच्चे के लिए ।