सोशल मीडिया से हमें बेहतर परिणाम मिलने चाहिए: आरिफ नकवी

 


  सोशल मीडिया ने लोगों को जोड़ने का अद्भुत काम किया है। : प्रो. फारूक अंसारी

  आज कई ऑडियो-वीडियो ने भी उर्दू को बढ़ावा देने का काम किया है। : डॉ.शोएब रज़ा वारसी


मेरठ विश्वविद्यालय के उर्दू विभाग में 'अदबनुमा' के तहत "सोशल मीडिया और उर्दू" विषय पर एक ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। अपने अध्यक्षीय भाषण में श्री आरिफ नकवी ने कहा कि आज युवा पीढ़ी सोशल मीडिया का इतना अच्छा उपयोग कर रही है कि हमें उनकी मदद लेनी पड़ती है, लेकिन हमें यह भी देखना होगा कि सोशल मीडिया आज हमारे जीवन में कितनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। सोशल मीडिया इस सदी में हमें मिला सबसे बड़ा उपहार है। हमें सोशल मीडिया से बेहतर नतीजे मिलने चाहिए।'' 

   कार्यक्रम की शुरुआत सईद अहमद सहारनपुरी ने पवित्र कुरान की तिलावत और सैयदा मरियम इलाही द्वारा पेश की गई नात से हुई। इस कार्यक्रम का संयोजन प्रसिद्ध कथा लेखक और उर्दू विभाग के अध्यक्ष प्रो. असलम जमशेदपुरी ने किया। मुख्य वक्ता के रूप में प्रो. फारूक अंसारी (एनसीईआरटी), नई दिल्ली, प्रो. मोइनुद्दीन जिनाबड़े, डॉ. शुएब रजा वारसी, एनआईओएस, नोएडा और लखनऊ से एवाईएसए की अध्यक्ष प्रो. रेशमा परवीन ने भाग लिया, जबकि डॉ. साजिद अली और डॉ. ताबिश फरीद ने अपने शोध-प्रपत्र प्रस्तुत किए। स्वागत भाषण डॉ. इरशाद सयानवी ने , संचालन रिसर्च स्कॉलर उज़्मा सहर और सैयदा मरियम इलाही ने धन्यवाद ज्ञापन किया।

विषय प्रवर्तन करते हुए डॉ. इरशाद स्यानवी ने कहा कि सोशल मीडिया ने आज उर्दू जगत में तहलका मचा दिया है। सोशल मीडिया ने दूरियों को नजदीकियों में बदल दिया है।उर्दू नेट जापान, रेख्ता और उर्दू अखबारों ने उर्दू भाषा के लोगों की बहुत मदद की है। नई सदी में सोशल मीडिया ने जहां नई पीढ़ी को काफी फायदा पहुंचाया है, वहीं उर्दू के क्षेत्र में भी इसने कई सुविधाएं पहुंचाई हैं।

प्रो. असलम जमशेदपुरी ने कहा कि जब से उर्दू लोगों के बीच सोशल मीडिया का महत्व पैदा हुआ है, तब से उर्दू के प्रचार-प्रसार में नई संभावनाएं पैदा हो रही हैं। दुनिया भर के सभी उर्दू अखबार और पत्रिकाएं आप मोबाइल पर पढ़ सकते हैं। उर्दू दुनिया ने भी फेसबुक पर अपना ग्रुप बनाया है जिस पर हमें पर कई कहानियां और आवश्यक जानकारियां मिलती हैं। यूनिकोड ने उर्दू लोगों की हीन भावना को दूर कर दिया है।

प्रो. फारूक अंसारी ने कहा कि पिछले कई दशकों में बहुत सारे बदलाव हुए हैं. आज डिजिटल युग तेजी से बदल रहा है, हमारी आंखों के सामने जो होता है उसका मूल स्रोत हम सोशल मीडिया के माध्यम से जानते हैं। आज व्हाट्सएप पर बहुत सारे ग्रुप मौजूद हैं जो इसे काफी लोकप्रिय बनाते हैं। ट्विटर से भी कई लोग जुड़े हुए हैं. सोशल मीडिया ने लोगों को जोड़ने का अद्भुत काम किया है. इसने वैज्ञानिक शिक्षा और सामाजिक पहलुओं को उजागर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

प्रो. मोइनुद्दीन जिनाबड़े ने कहा कि सोशल मीडिया के महत्व से कोई इनकार नहीं कर सकता लेकिन असली बात यह है कि यूजर्स इसका इस्तेमाल कैसे करते हैं। हर मीडिया चैनल का अपना एजेंडा होता है.

डॉ.शोएब रजा वारसी ने कहा कि आजकल सोशल मीडिया पर कहीं सही तो कहीं गलत इस्तेमाल हो रहा है. ऑनलाइन कक्षाओं में आज कई स्मार्ट छात्र देखने को मिल रहे हैं। आज कई ऑडियो-वीडियो ने भी उर्दू को बढ़ावा देने में मदद की है। आज उर्दू अन्य भाषाओं के साथ-साथ विकास कर रही है। आज सोशल मीडिया पर हिंदी, अंग्रेजी के साथ-साथ उर्दू की भी कई किताबें उपलब्ध हैं। आज उर्दू कहीं भी किसी से पीछे नहीं है। हमें निराश होने की जरूरत नहीं है. 

प्रो. रेशमा परवीन ने कहा कि मैं आज के कार्यक्रम के लिए सभी को बधाई देती हूं और अपने सभी छात्रों से बस यही कहती हूं कि वे सोशल मीडिया का सकारात्मक उपयोग करें और इसके सकारात्मक परिणामों से बहुत खुश रहें।

कार्यक्रम से डॉ. आसिफ अली, डॉ. शादाब अलीम, डॉ. अलका वशिष्ठ, मुहम्मद शमशाद, फैजान जफर, लाइबा एवं अन्य छात्र ऑनलाइन जुड़े रहे।

Popular posts from this blog

मदरसों को बंद करने की रची जा रही साजिश.. जमियत ने नोटिसो को बताया साजिश

भोकरहेड़ी में भारी सुरक्षा के बीच निकाली गयी बालाजी शोभायात्रा, कस्बे में हुआ भव्य स्वागत

गंधक व पोटाश मिलाते समय किशोर की मौत