डॉ फुरकान सरधनवी को उर्दू अकादमी अवार्ड देगी योगी सरकार


 
उत्तर प्रदेश उर्दू अकादमी लखनऊ ने सरधना के  नौजवान शायर एवं साहित्यकार डॉक्टर फुरकान को उनकी किताब "उत्तर प्रदेश में उर्दू गजल 1980 के बाद'" को अवार्ड के  लिये चुना है। अकादमी की चेयरपर्सन प्रोफेसर आसिफा जमानी ने पुरस्कार देने की घोषणा की है ।पुरस्कार स्वरूप ₹15000 का चेक एवं एक सनद देकर सम्मानित किया जाएगा। पुरस्कार की घोषणा के बाद सरधना के इल्मी अदबी एवं सामाजिक लोगों में खुशी का माहौल है और उन्हें मुबारकबाद देने का सिलसिला जारी है। डॉक्टर फुरकान सरधनवी की अब तक तीन किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं जिनमें उत्तर प्रदेश में उर्दू गजल 1980 के बाद , अनीस अंसारी की शख्सियत और फन्नी ज़ाविये एवं खुशबू इधर-उधर शामिल हैं। इनके अलावा उनके विभिन्न पत्रिकाओं में लेख गजलें एवं समीक्षा प्रकाशित होते रहते हैं। इससे पहले भी डॉक्टर फुरकान सरधनवी को उनकी पुस्तक "खुशबू इधर-उधर" पर अलीगढ़ से शहरयार अवार्ड मिल चुका है तथा इसके अलावा भी उन्हें शायरी के क्षेत्र में बहुत से पुरस्कार और अवार्ड मिल चुके हैं। उस्ताद शायर अनवर उल हक़ शादां, प्रोफेसर यूनुस गाज़ी, शमे अदब के सदर शाहिद मिर्ज़ा, बज़्मे अदब के सदर अब्दुल सलाम फरीदी, मौलाना रिज़वान, असद ग़ालिब, ज़फ़र कुरैशी, डॉ अंजना सिंह सेंगर, मो अली शाह, शावेज़ अंसारी समेत विभिन्न साहित्यिक विभूतियों ने मुबारकबाद दी है।