मेरठ की सड़कों में गड्ढे ही गड्ढे, हो रहें हादसे

 


-भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य ने उठाया मुद्दा

मेरठ। शहर की सड़कें बदहाल है। टूटी हुई है। खराब सड़कों के कारण आए दिन हादसे हो रहे हैं। भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य काजी शादाब ने जर्जर सड़कों की मरम्मत व निमार्ण के लिए शासन को पत्र लिखा है। मुख्यमंत्री से सड़कों की स्थिति को सुधारने की मांग की है।

काजी शादाब ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखते हुए बताया कि जब प्रदेश में भाजपा सरकार का गठन हुआ था, तब शासन की ओर से निर्देश दिए गए थे कि पूरे प्रदेश की सड़कें गड्ढा मुक्त होगी लेकिन, मेरठ में अधिकांश सड़कें गड्ढा युक्त हैं। कुछ सड़कें तो ऐसी है जहां गड्ढों में से सड़क को ढूंढना पड़ता है। शहर के अंदर ऐसी कोई सड़क नहीं है, जिसमें कई फीट गहरे गड्ढे ना हो। डिफेंस, रामबाग, रेलवे रोड, बुढ़ाना गेट, पिलोखड़ी, थाना नौचंदी रोड, सूरजकुंड, वेस्टर्न कचहरी, गढ़ रोड, गोला कुआ, बुढ़ाना गेट, खैरनगर, लिसाड़ी रोड आदि मार्ग हैं, इन सड़कों का रखरखाव नगर निगम, मेरठ विकास प्राधिकरण, पीडब्ल्यूडी द्वारा किया जाता है। इससे उपरोक्त तीनों विभागों के अफसरों की कार्यप्रणाली पर संदेह है पतीत होता है। नगर निगम, पीडब्ल्यूडी तथा विकास प्राधिकरण के अधिकारी इस तरफ आंखें मूंदकर शासन के आदेशों की खुलेआम अवहेलना कर रहे हैं, जिससे मेरठ की जनता में आक्रोश व्याप्त हो रहा है। टूटी सड़कों के कारण जनता में सरकार की छवि धूमिल हो रही है, ऐसा प्रतीत होता है कि उक्त विभागों के अफसर जानबूझकर भारतीय जनता पार्टी की सरकार को बदनाम करने का कार्य कर रहे हैं, जबकि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा लगातार सड़कों के निर्माण व रखरखाव के कार्य के लिए पर्याप्त धन की व्यवस्था की जा रही है। काजी शादाब ने मांग की कि तत्काल प्रभाव से जनपद की उपरोक्त सड़कों को गड्ढा मुक्त करने का आदेश संबंधित विभाग के अधिकारियों को दिया जाए। दोषी अफसरों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जाए।

Popular posts from this blog

गोरखपुर के कलक्टर विजय किरण आनंद व SSP पर NHRC में केस दर्ज

सिटी सेंटर में हुई लाखो की चोरी का खुलासा, महिला सहित 5 अरेस्ट, 31 मोबाइल व नकदी बरामद

चाऊमीन खिलाने के बहाने घर से बुलाकर ले गए युवक की दोस्तों ने ही सिर में गोली मारकर हत्या