हैदरपुर वेटलेण्ड को सौन्दर्य की दृष्टी से भारत के नक्शे पर लाने के लिये बायो डायवर्सिटी का काम एक योजना के तहत शीघ्र शुरू: कमिश्नर

मीरापुर। वन विभाग की ओर से आयोजित हैदरपुर वेट लेण्ड के दूसरे दिन समापन समारोह में मण्डलायुक्त संजय कुमार ने कहा कि हैदरपुर वेटलेण्ड को सौन्दर्य की दृष्टी से भारत के नक्शे पर लाने के लिये बायो डायवर्सिटी का काम एक योजना के तहत शीघ्र शुरू कर दिया जायेगा।
हैदरपुर वेट लेण्ड का दो दिवसीय कार्यक्रम का समापन गंगा बैराज किया गया। इस अवसर पर मण्डलायुक्त ने वन, सिचाई, राजस्व विभाग के अधिकारियों से संयुक्त रूप से योजना बनाकर कार्यवाही करने पर बल दिया। इन्होने बताया कि 30 लाख रूपये की लागत से हैदरपुर वेटलेण्ड का सौन्दर्यकरण किया गया है। वहीं हैदरपुर झील में मछली पकडने वाले लोगो के विरूद्ध कार्यवाही करने के लिये सरकार ने एक मोटरबोट भी वन विभाग को सौंपी है। इन्होने कहा कि हैदरपुर झील के पास शीध्र ही एक पुलिस चौकी की स्थापना की जायेगी ताकि अवैध रूप से शराब बनाने वाले लोगो पर अंकुश लगाया जा सके। सरकारी आधिकारियो को निर्देश दिया कि हैदरपुर वेटलेण्ड को सौन्दर्य की दृष्टि से भारत के नक्शे पर लाने का प्रयास किया जाये जिससे आसपास की जनपदो एंव दिल्ली के पर्यटक आकर्षित हो सकें। वेट लेण्ड के विकास एंव सवर्धन कार्य पर तथा वेट लेण्ड में जीवो की जैव विविधता की संभावनाओं पर तथा वेट लेण्ड को विश्व स्तर पर पहचान दिलाने एंव क्षेत्र में अवैध गतिविधियों पर पूर्ण नियन्त्रण हेतु समस्त अधिकारियो से गहन चर्चा की गयी। हैदरपुर झील में गैंडा के पुनर्वास पर भी विस्तार से चर्चा की गयी। वैट लेण्ड के जल की शुद्धता के सम्बन्ध में डब्लूडब्लूएफ के सूपरवाईजर ब्रजगोपाल ने कहा कि वेट लेण्ड में फिशिंग केट पायी जाती है जिससे सिद्ध होता है कि वेट लेण्ड का पानी साफ व शुद्ध है। इस अवसर पर मण्डलायुक्त संजय कुमार ने पक्षी विशेषज्ञ एंव अन्य विशिष्ट लोगो को प्रमाण पत्र प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर वी.के. सिंह वन रक्षक सहारनपुर, ब्रजगोपाल एडवाइजर, असद रहमानी पक्षी विशेषज्ञ, सिक्का सिंह एडवाइजर नमामी गंगे, आशीष लोया, संजीव यादव, वनक्षेत्राधिकारी मनोज बलोदी, सहायक वनक्षेत्राधिकारी मोहन कुमार बहुखण्डी आदि मौजूद रहे। 
रिपोर्ट -नईम चौधरी